उत्तरप्रदेश के हाथरस पहुचे पीड़िता के परिवार वालो से मिलने राहुल गाँधी और प्रियंका गाँधी।

0
4
हाथरस राहुल गाँधी प्रियंका गाँधी (PARICHAYTIMES)

परिचय टाइम्स: हाथरस न्यूज़, उत्तरप्रदेश के हाथरस में दलित लड़की के साथ गैंगरेप और हत्या का बाद अब राहुल गाँधी और प्रियंका गाँधी हाथरस पीड़िता के परिवार वालो से मिलने के लिए रवाना हो गए है। इस वजह से नॉएडा के फ्लाईवे पर काफी सुरक्षाबल तैनात कर दी गई है। हालांकि आपको बता दे कि प्रशासन कि ओरसे कहा गया था कि हाथरस में कोरोना वायरस के चलते धारा१४४ लागु कि गई है जो कि १ सितम्बर से ३१ अक्टूबर तक है।जब राहुल ओर प्रियंका गाँधी नॉएडा पहुचे तो उनको व्ही DND पर रोक लिया गया है ओर उसके बाद ही वह पैदल निकल पड़े साथ ही DND फ्लाईवे पर बैठ कर योगी सरकारके खिलाफ नारेबाजी करने लगे। आपको बता दे कि राहुल गाँधी ओर प्रियंका गाँधी ने हाथरस मामले में एक के बाद एक तव्वत करके योगी सरकार ने इस्तीफ़ा कि मांग की है। प्रियंका गाँधी ने योगी आदित्यनाथ से तीन सवाल भी पूछे है कि परिजनों से जबरदस्ती छीन कर पीड़िता के शव को जला देने का आदेश किसने दिया ? और पिछले १४ दिन से योगी आदित्यनथा कहा सो हुए थे ? और कद तक चलेगा यह सब कैसे मख्यमंत्री है आप ? पीड़िता के गांव में एसआईटी की टीम पहुंची है और परिजनों से पूछताछ कर रही है। गांव में एसआईटी की टीम द्वारा जांच की जा रही है। गांव में मीडिया व अन्य लोगों का प्रवेश रोक दिया गया है और हर जगहों पर पुलिस फोर्स व प्रशासनिक अधिकारियों की तैनाती कर दी गई है। और साथ ही पीड़िता कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट सामने आई है और उसने यह बताया जा रहा है पीड़िता की गर्दन कि हड्डी के अलावा भी काफी जगह फ्रैक्चर है। पोस्टमार्टम की रिपोर्ट बुधवार को शाम में यूपी पुलिस को सौंप दी गई है। फॉरेंसिक विभाग ने युवती के शव का विसरा भी सुरक्षित रख लिया है और साथ ही नाखून और वेजाइनल स्वैब भी रखा है उसे फॉरेंसिक जांच के लिए भेजा जाएगा।

इसी बिच एक खबर है कि पीड़िता के पिता से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने बात करके उन्हें भरोसा दिलाया
है कि उनकी बेटी को जरूर से जरूर न्यय मिलेगा पीड़िता के पिता का कहना है कि वे चाहते  हैं कि जिन लोगों ने उनकी बेटी के साथ ऐसा घिनौना काम किया है उससे कठोर से कठोर सजा मिलनी चाहिए। बड़ी दुखद बात है कि बेटी के जाने के बाद उसका आखिरी बार चेहरा न देख पाना उन्हें इस बात का बेहद मलाल है कि वह अपनी बिटिया का आखिरी समय में चेहरा नहीं देख पाए उनको इन्साफ चाहिए जब तक उस पीड़िता को इन्साफ नहीं मिल जाता वह बार बार अपनी आवाज़ उठाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here